एक वाकिया "हज़रत उमर رضي الله ﺗﻌﺎﻟﯽٰ عنه" का

वो वक्त गुजर गया ऐसा नहीं कहे बल्के अब ये कहे इंशाल्लाह वो वक्त फिर लौट आ रहा हैं।

Apr 12, 2023 - 05:30
 0  84
एक वाकिया "हज़रत उमर رضي الله ﺗﻌﺎﻟﯽٰ عنه" का
राइटपोस्ट की खबरे अपनों से शेयर करना न भूले

royal telecom

royal telecom

यह फ़ोटो देखकर मुझे "हज़रत उमर رضي الله ﺗﻌﺎﻟﯽٰ عنه का" बहुत प्यारा वाकिया याद आ गया.ज़रूर पढ़ें 

अरब का एक बद्दू अपनी बीवी के साथ मदीना आ रहा था उसको आते रात हो गई तो उसने ख़ेमा मदीना शहर के बाहर ही लगा लिया।

उसकी बीवी उम्मीद से (प्रेग्नेंट)थी और बच्चे की विलादत का वक़्त करीब आ गया।

royal-telecom
royal-telecom

हज़रत उमर उस वक़्त गश्त पर थे और साथ एक गुलाम था हज़रत उमर कहने लगे वो आग जल रही है पता करो वहाँ कौन है? जब गुलाम पता करने उस के पास गया।

बद्दू ने डाँटते हुए कहाँ जाओ तुम्हे क्यों बताऊँ। फिर हज़रत उमर खुद गए और कहाँ मुसाफ़िर भाई बताओं तो सही आप कौन हो?

वो बद्दू कहने लगा छोड़े मैं क्यूँ बताऊँ मैं कौन हूँ, कैसे आया हूँ।


royal telecom

royal telecom

इतने में ख़ेमे के अन्दर से किसी के कराहने की आवाज़ आती है कोई दर्द से चीख़ रहा है। फिर हज़रत उमर ने फरमाया बता बात क्या है? वो कहने लगा मैं फलाँ बस्ती, फलाँ इलाके का एक गरीब आदमी हुँ अमीरुल मोमिनीन

हज़रत उमर رضي الله ﺗﻌﺎﻟﯽٰ عنه से मिलने आया हुँ लेकिन रात हो गई तो यहीं ख़ेमा लगा लिया सुबह मैं उनसे मिलकर चला जाऊँगा, तो रात को तकलीफ देना पसन्द नही किया।

अब मेरी बीवी उम्मीद से है बच्चे की विलादत का वक़्त करीब है

और मेरे पास कोई नही जो मेरी बीवी को संभाल सकें।

हज़रत उमर ने कहाँ तू ठहर मैं अभी आया आप के चेहरे पे नक़ाब था और उस बद्दू को बताया भी नही की मैं ही अमीरुल मोमिनीन हूँ।

हज़रत उमर जल्दी से घर गए और अपनी जौज़ा से फ़रमाया अगर तुझे बहुत बड़ा अज़्र मिलना वाला होतो तू हासिल करेंगी? जौज़ा कहने लिए जी करूँगी। तो आप ने फरमाया चलो मेरे साथ एक दोस्त के यहाँ बच्चे की विलादत का वक़्त है ज़रूरत की चीज़ें साथ लेलो। आपकी जौज़ा ने थोड़े दाने ले लिए, घी ले लिया और हज़रत उमर से कहने लगी कि लकड़ियाँ जमा कर लीजिए।हज़रत उमर ने लकड़ियाँ जमा की मिट्टी का चूल्हा साथ लिया और वहाँ पहुंचे। 

आपकी जौज़ा कहने लगी ये दाने और घी डाले और लकड़ी लेकर इसे हिलाए और तैय्यार करें फिर खुद अन्दर ख़ेमे में चली गई, बाहर हज़रत उमर पकाने लगे।

वो बद्दू सब देख रहा था और आपके साथ इस तरह का रवैय्या करने लगा जैसे किसी काम करने वाले नोकर के साथ किया जाता है, बद्दू समझा ये हज़रत उमर ने चौकीदार नोकर रखें है जो आने-जाने वाले मेहमानों का काम करते है। वो कभी हज़रत उमर से पानी माँगता, कभी कुछ काम बताता।

हज़रत उमर फ़ौरन जल्दी से उसका काम करते। वो बद्दू कहता है तुझे घी पकाना भी आता है? इससे पहले भी कभी पकाया है? हज़रत उमर फ़रमाते कोशिश कर रहा हूं। बद्दू कहता पहले कभी तेरी बीवी ने ये काम किया है?? हज़रत उमर कहने लगे मुझे याद नही पूछकर बताऊँगा।

इतने में हज़रत उमर की जौज़ा ख़ेमे के अन्दर से बोलती हैं "अमीरुल मोमिनीन मुबारक हो आपके दोस्त के यहाँ बेटा पैदा हुआ है।"

जब आपकी जौज़ा ने कहाँ अमीरुल मोमिनीन मुबारक हो तो उस बद्दू के हाथ काँपने लगे और वो इस तरह दौड़ा की उसकी पगड़ी गिर गई। जब वो भागने लगा तो हज़रत उमर رضي الله ﺗﻌﺎﻟﯽٰ عنه ने उसे बुलाया और कहने लगें किधर जा रहे हो?? 

वो बद्दू कहने लगा आप अमीरुल मोमिनीन है? आप हज़रत उमर है? 

केसरों-किसरा जिसके नाम से काँपते है आप वो है?

जिसे मुस्तफा ﷺ ने दुआँ माँगकर अल्लाह से माँगा आप वो है?

जिसके बारे में हज़रत अबू बक़र رضي الله ﺗﻌﺎﻟﯽٰ عنه ने फ़रमाया था  मैं अल्लाह से कहूँगा की तेरे मेहबूब ﷺ की उम्मत के हक़ में जो सबसे बेहतर था उसे मैं ख़लीफ़ा बना के आया हूँ आप वो उमर है??

अमीरुल मोमिनीन की बीवी तो ख़ातून-ए-अव्वल होती है, वो तो मलिका होती है और आपकी बीवी दाई बनकर एक गरीब के बच्चे के पास बैठी रही विलादत के वक़्त।

उमर अमीरुल मोमिनीन होकर आपकी दाढ़ी सारी धुँए से भर गई आप मेरी नोकरी करते रहे।

जब उसने यह बातें कही तो हज़रत उमर रो पड़े उस बद्दू को सीने से लगाकर कहने लगे तुझे पता नही तू कहाँ है, इस शहर का पता है?

 उसने कहाँ आया हूँ? आपने फ़रमाया ये मेरे नबी ﷺ का मदीना है ये मुस्तफा करीम ﷺ का मदीना है। यहाँ अमीरों के इस्तक़बाल नही होते यहाँ गरीबो के इस्तक़बाल होते है।

यहाँ मेरे नबी ﷺ ने वो रंग दिया है कि गरीब सर उठाकर जीने लगे है और अब मज़दूरो को इज़्ज़ते मिलने लगी है। अब यतीम, बेवा, बेसहारा कहते है कि हमारा कोई सुनने वाला आ गया है!!!

करे सवार   ऊँट पे   अपने गुलाम को

पैदल ही खुद चले वो आक़ा तलाश कर

????????

नोट ???? इस फ़ोटो में ज़मीन पर बैठे शख़्स अफगानिस्तान के सूबे अर्ज़गान के आई जी (IG) पुलिस अफ़सर मौलवी अब्दुल्लाह है।

जबकि सामने व्हील चेयर पर बैठा शख्स एक माज़ुर मुजाहिद है, IG  साहब माज़ुर मुजाहिद के सामने ज़मीन पर बैठ गए और इसका मसअला सुना, फिर इनको रकम की मदद की।

क्या कोई ला सकता है ऐसी मिसाल

हुज़ूर صلی اللہ علیہ وسلم के गुलाम की ?

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow

RightPost Officials आप अपना लेख, न्यूज़, मजमून, ग्राउंड रिपोर्ट और प्रेस रिलीज़ हमें भेज सकते हैं Email: rightpost24x7@gmail.com या Whatapp 9834985191
royal-telecom
royal-telecom